Education loan in Hindi

Education loan in Hindi

एजुकेशन लोन क्या है? इसके प्रकार , योग्यता तथा लाभ के बारे में जानकारी





12th करने के बाद सभी का सपना होता है कि वह अच्छी कॉलेज में आगे की पढ़ाई करें इन दिनों एजुकेशन का ख़र्च भी काफी बढ़ गया है. युवाओं को अपने सपने पूरे करने के लिए कठिन परिश्रम के साथ साथ पैसों की भी ज़रुरत है. कई बार परिवार की आर्थिक स्थिति सही न होने पर कई युवा अपनी पढाई पूरी नहीं कर पाते और उनके सपने अधूरे रह जाते हैं. इस समस्या को समाप्त करने के लिए कई बैंक और आर्थिक संस्थाएं अध्ययन के लिए ऋण देने की मुहीम शुरू कर रही है, ताकि अधिक से अधिक युवाओं को अपने सपने पूरे करने के मौके मिल सकें. इस लोन के सहारे युवा विदेश जा कर भी अपने मन के मुताबिक पढाई कर सकते हैं. ये ऋण इन संस्थाओं द्वारा कुछ शर्तों पर दिए जाते हैं. यहाँ पर इस लोन के विषय में आवश्यक बातें दी जा रही हैं.


Education loan
एजुकेशन लोन से सम्बंधित कुछ विशिष्ट बातें

एजुकेशन लोन क्या करता है : एजुकेशन लोन अक्सर किसी विद्यार्थी के कॉलेज की मूलभूत फीस तथा पढाई- लिखाई और अन्य तरह की चीज़ों का सारा ख़र्च  बैंक उठाता है




www.gyaanbank.com
Education loan 

कौन अप्लाई कर सकता है : किसी आर्थिक संस्थान से शिक्षा ऋण पाने के लिए सर्वप्रथम विद्यार्थी को आवेदन देना होता है. विद्यार्थी ही मुख्य आवेदन देगा. अभिभावक उप आवेदक होते हैं.


किन्हें लोन मिल सकता है : यह ऋण उन भारतीय विद्यार्थियों को मिल सकता है, जो भारत में रहकर अथवा विदेश जा कर अपनी पढाई पूरी करना चाहते हैं. इसके लिए संस्थानों द्वारा दी जाने वाली अधिकतम राशि संस्थानों पर निर्भर करती है.


क्या क्या कोर्स हो सकते हैं : यह ऋण विभिन्न पार्ट टाइम, फुल टाइम, वोकेशनल, ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन, इंजीनियरिंग कोर्स, मैनेजमेंट, मेडिकल, होटल मैनेजमेंट आदि के लिए प्राप्त किया जा सकता है.

एजुकेशन लोन के लिए योग्यता

एजुकेशन लोन पाने के लिए आवेदक को सर्वप्रथम भारत का नागरिक होना आवश्यक है.

आवेदक का देश के किसी अधिकार युक्त यूनिवर्सिटी में दाखिला होना आवश्यक है.


आवेदक की हायर सेकेंडरी पूरी होनी चाहिए. हालांकि कुछ बैंक ऐसे भी हैं, जो दाखिले से पहले भी लोन देते हैं.


और 10th 12th का परसेंट भी अच्छा होना चाहिए

यद्यपि भारतीय रिज़र्व बैंक के नियमों के अनुसार इस लोन को प्राप्त करने के लिए कोई अधिकतम आयु सीमा नहीं है, किन्तु कई बैंक अपने नियम और शर्तों में अधिकतम आयु की सीमा रखता है.



एजुकेशन लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज़

बैंक अक्सर कुछ अतिरिक्त दस्तावेज़ की मांग करता है,
प्रवेश पत्र/कॉलेज का एडमिशन लैटर,
पढाई की लागत का विवरण,
छात्र और सह-उधारकर्ता (co-borrower) के KYC दस्तावेज,
माता-पिता / अभिभावक / सह-उधारकर्ता के लिए बैंक खाता स्टेटमेंट, आयकर रिटर्न,
कक्षा 10वीं, 12वीं बोर्ड एग्जाम का रिजल्ट और आवश्यकता होने पर ग्रेजुएशन तक का रिजल्ट, सैलरी स्लिप, इत्यादि –
आवासीय प्रमाण पत्र मसलन राशन कार्ड, बैंक पासबुक, वोटर आईडी आदि.
दाख़िला प्रमाण पत्र.
पिछले भुगतान किये गये फीस का प्रमाण.
विद्यार्थी और अभिभावक का आधार तथा पैन कार्ड
.


एजुकेशन लोन के प्रकार



भारत की शिक्षा व्यवस्था को देखते हुए चार तरह के एजुकेशन लोन होते हैं.



अंडरग्रेजुएट एजुकेशन लोन : वे विद्यार्थी जिन्होंने अपनी हायर सेकेंडरी शिक्षा पूरी कर ली हो, और तीन अथवा चार साल के ग्रेजुएशन कोर्स को पूरा करना चाहते हो, वह इस लोन के लिए आवेदन दे सकता है.

ग्रेजुएट एजुकेशन लोन : ग्रेजुएट छात्र / छात्रा ही इसका फायदा उठा सकते हैं. वे अपनी उच्च शिक्षा के लिए एजुकेशन लोन ले सकते हैं.

करियर एजुकेशन लोन : करियर एजुकेशन लोन उन विद्यार्थियों को मिल पाता है, जो देश के किसी टेक्निकल स्कूल अथवा सस्थानों में अपनी रूचि के तहत पढाई करना चाहते हैं, मसलन इंजीनियरिंग.

अभिभावकों के लिए लोन : वे अभिभावक अथवा सगे सम्बन्धी जो अपने किसी बच्चे को पढ़ाने में सक्षम नहीं हैं, यानि उसकी पढ़ाई और पढाई सम्बन्धी अन्य चीज़ों के खर्चे नहीं उठा पा रहे है, वे अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए इस लोन का आवेदन दे सकते हैं. इससे वे एजुकेशन की ओर अपने बच्चों को बढ़ावा देने के लिए अग्रसर होंगे.

लोन लेने में आसानी : अन्य लोन की तुलना में एजुकेशन लोन पाने की प्रक्रिया बहुत आसान है. बहुत आसान प्रक्रियाओं को पूरा कर हायर एजुकेशन के लिए लोन प्राप्त किया जा सकता है.

एजुकेशन लोन में जागरूकता

एजुकेशन लोन लेते समय लोन से सम्बंधित सभी शर्तों को जान और परख लेना चाहिए, ताकि शिक्षा के बीच में किसी तरह की परेशानी अथवा रुकावट न आ सके. इस बात को जानना बेहद ज़रूरी है, कि भारत में पढाई करने के लिए अधिकतम 10 लाख रूपए तक का और विदेश में जा कर पढाई करने के लिए अधिकतम 20 लाख का ऋण दिया जाता है. चार लाख रूपए तक के लोन के लिए किसी भी तरह की गारंटी की ज़रुरत नहीं होती है, किन्तु 4 लाख से ऊपर के ऋण के लिए विभिन्न बैंक विभिन्न तरह के गारंटी की मांग कर सकते हैं.


कितना लोन मिल सकता है?

ऊपर मैंने अधिकतम लोन राशि का ज़िक्र किया है|
परन्तु बैंक आपकी पढाई का सारा खर्चा शायद न उठाये|
कुछ खर्चा शायद आपको भी उठाना पडे़| ऐसे हिस्से हो Margin कहते हैं|

4 लाख रुपये तक के लोन के लिए: कोई मार्जिन आवश्यक नहीं है ( अगर आप 4 लाख तक का लोन लेते हैं तो पूरा पैसा बैंक पे करेगा आपको अपने से नहीं)

4 लाख रुपये से अधिक के लोन के लिए: भारत में पढाई के लिए 5%, विदेश में पढाई के लिए 15%

इसका मतलब यह हुआ की अगर पढाई का खर्चा 10 लाख रुपये है, तो आपको 8 से 9 लाख रुपये तक का लोन मिल सकता है बचा हुआ 2 लाख रुपये आपको अपनी जब से देना होगा|

एजुकेशन लोन पर लिए जाने वाले इंटरेस्ट

एजुकेशन लोन पर आमतौर पर 11 परसेंट से 14 परसेंट के बीच में लेते हैं लेकिन कुछ बैंक इससे ज्यादा भी वसूल करती है  कुछ बैंक गर्ल्स के लिए कम ब्याज दर रखती है





लोन का भुगतान कितने वर्षों में करना होगा

आपका कोर्स पूरा होने के 1 वर्ष बाद लोन का भुगतान शुरू होगा कोई कोई बैंक में कोर्स पूरा होने के 6 महीने के बाद से भुगतान शुरू हो जाता

इसका मतलब अपनी पढाई के दौरान और पढाई खत्म होने के एक वर्ष बाद तक आपको लोन के भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है| पर हाँ, ब्याज आपकी मूल राशि में जुड़ता रहेगा और लोन अपने आप बढ़ता रहेगा|

लोन भुगतान की अवधि 15 वर्ष है आप चाहें तो समय से पहले भी लोन का भुगतान कर सकते हैं अलग-अलग बैंक का अलग अलग समय सीमा होता है ?

ज्यादा जानकारी के लिए अपने नजदीकी ब्रांच से संपर्क करें






Previous
Next Post »

7 comments

Click here for comments
Unknown
admin
December 8, 2018 at 1:30 AM ×

Great support for needy students to learn.

Reply
avatar
January 23, 2019 at 6:31 AM ×


If you want to exchange backlinks with my website contact me. we both are beginners and we should help each other to grow. Best technology factsjust comment your email id i will contact you. dont worry it wont be published.

Reply
avatar
Etiaasha
admin
February 14, 2019 at 9:01 PM ×

Great information sir ji and thank you

Reply
avatar

Translate